TRADITIONAL APPROACH OF DEBIT AND CREDIT- डेबिट और  क्रेडिट  की परम्परागत नियम

डेबिट और  क्रेडिट  की परम्परागत अवधारणा TRADITIONAL APPROACH OF DEBIT AND CREDIT Or डेबिट और  क्रेडिट  करने के  परम्परागत नियम TRADITIONAL RULES OF OF DEBIT AND CREDIT दोहरे स्वरूप की …

Read more

 TRIAL BALANCE – तलपट- ट्रायल बैलेंस- परीक्षा सूची – शेष परीक्षण

तलपट या शेष परीक्षण या परीक्षा सूची – TRIAL BALANCE TRIAL BALANCE  – एक व्यापारी के यहां दिन-प्रतिदिन अनेक प्रकार के सौदे होते हें, और उन सौदों को जर्नल में …

Read more

अधिकार शुल्क लेखे – ROYALTY

ROYALTY : अधिकार शुल्क से आशय (MEANING OF ROYALTY) – अधिकार शुल्क शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है, अधिकाऱ+शुल्क  अर्थात अधिकार के बदले दिया अथवा लिया जाने वाला शुल्क, …

Read more

किराया क्रय पद्धति – Hire Purchase System

किराया क्रय पद्धति (Hire Purchase System) आधुनिक वाणिज्य के युग में व्यापारी तथा उत्पादक अपने माल का विक्रय बढ़ाने के उद्देश्य से नई-नई पद्धतियाँ अपनाते हैं। इस युग में माल …

Read more

ह्रास- Depriciation

मूल्य ह्रास से आशय ह्रास- (Depriciation) -व्यवसाय में अनेक प्रकार की सम्पत्तियां प्रयोग में लायी जाती हैं, उनमें से कुछ स्थायी स्वभाव की होती हैं जैसे – भवन, मशीन, फर्नीचर, प्लांट, …

Read more

आधारभूत लेखांकन शब्दावली

 आधारभूत लेखांकन शब्दावली परिचय व्यवसाय (Business)-  सरल शब्दों में  व्यवसाय एक मानवाीय आर्थिक क्रिया है, जिसके अन्तर्गत वस्तुओं और सेवाओ का निर्माण, क्रय विक्रय एवं विनिमय नियमित रूप से लाभ …

Read more

बही-खाता :अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएँ (Book-keeping)

बही-खाता – वर्तमान समय में वाणिज्य एवं व्यवसाय के स्वरूप में बड़ी तेजी से परिवर्तन हो रहे हैं, आज व्यापार एवं वाणिज्य देश की सीमायें लांघकर सात समुन्दर पार करके …

Read more

error: Alert: Content is protected !!